** आओ हम समाज ऋण को चुकाएँ **

मित्रों, जिस समाज में हम पैदा हुए हैं, जिस समाज ने हमें जीवन दिया है, जिस समाज ने हमें सम्मान दिया है.. उस समाज के उत्थान के लिए, उसके नवनिर्माण के लिए हमें सोचना है, उसके लिए कुछ योजना बनानी है, उसके लिए हमें काम करना है !

क्योंकि हमारे ऊपर समाज का ऋण है ! समाज से जो प्यार पाया, जो संस्कार पाया, जो विचार पाया.. उसे प्रतिदान देने के लिए हमें हमेशा तत्पर और तैयार रहना है ! और बहुत सारी चीजें, जिन्हें हम अनुभव करते हैं, जैसे न्याय, सुरक्षा, अपनापन, जीवन जीने की कला, ज्ञान और गुण, कृषि या व्यापार की कला और भौतिक तथा आध्यात्मिक विद्या आदि की उपलब्धि हमें समाज से प्राप्त होती है ! जरा सोचिये, अगर किसी ने हमें ऊँगली पकड़कर लिखना न सिखाया होता, तो क्या हम आज लिखना-पढ़ना सीख पाते ? अगर किसी ने हमारे लिए कपड़ा न बनाया होता, तो क्या हम अपने शरीर को इस तरह सजा पाते ? यदि किसी ने हमारे लिए खेती करके अनाज, फल या शाक न उगाया होता, तो क्या हम बिना भोजन के जी पाते ? मित्रों, हमारे ऊपर अनेक लोगों का उपकार है..जैसे चिकित्सक, शिक्षक, कृषक, मजदूर, ड्राईवर, इंजीनियर, संत, वैज्ञानिक, सैनिक, रसोइया, नौकर आदि ! क्या हम इनके उपकारों को भुला सकते हैं ? नहीं..कभी नहीं ! अब समय आ गया है कि हम अपनी जिम्मेदारी का परिचय दें ! हम अपने सामाजिक दायित्व को समझें और उसका निर्वाह करें ! जिससे कुछ लिया है..उसे वापस भी करना होता है, इतना तो हम जानते ही हैं ! अगर मैं कहूँ कि समाज ने मुझे क्या दिया है ? तो यह मेरी नासमझी या भूल होगी ! समाज ने हमें दिया ही दिया है ! हम अगर देख और समझ पाएं, तो हमारा ह्रदय कृतज्ञ हुए बिना नहीं रहेगा ! याद करिये उस पल को, जब आप बुखार से तड़प रहे थे, चीख-चिल्ला रहे थे, तब डॉ अंकल रात के 2 बजे बारिश में भीगते हुए और पैदल भागते हुए आपके पापा के निवेदन पर आपके घर आये थे और आपका इलाज किया था ! किसी ने हमारी बहन या बेटी के लिए अच्छा रिश्ता बताया था, किसी ने हमारी नौकरी लगवाई थी, किसी ने हमें चोर-लुटेरों से बचाया था ! किसी ने हमें धन का सहयोग किया था ! किसी ने हमें मित्र बनाया था ! साथियों, अनेक घटनाएं हम सबके साथ रोज-दिन घटती रहती हैं, जिन्हें हम नजर अंदाज कर जाते हैं ! क्या समाज का हम पर इतना उपकार कम है ? अतः आइये हम समाज के ऋण को श्रद्धा और भक्ति से, विनम्रता और समर्पण भाव के साथ चुकाने का यत्न करें ! इसी में हमारी समझदारी है !

हम किसी भी राजनीतिक दल से संबद्ध नहीं हैं और हम सबसे अच्छा प्रासंगिक जानकारी के साथ आप प्रदान करने के लिए अपनी तरफ से पूरी कोशिश करते हैं।