माँ कर्मा की आरती



|| संत शिरोमणि माँ कर्मा की जय ||
ॐ जय कर्मा माता, ॐ जय कर्मा |
राम शाह घर जनम लियो, सब जग है ध्याता || ॐ ||

पति भक्ति की प्रणेता, हो तुम ही ईश्वर प्यारी |
अदभूत महिमा तुम्हारी, सब गाएं नर नारी || ॐ ||

चैत महिना दिन ग्यारस की तुम झाँसी जन्मी |
नरवरगड़ ससुराल आपकी, पति सेवा कीनी || ॐ ||

ताल मोतियाभारे तेल से, सबसे कर जोड़ कहा || ॐ ||
तेल पेर कर थकित हुए जब बन्धु सारे |
माँ कर्मा ने अरज करी हे नटवर प्यारे || ॐ ||

सुनी तेर जब माँ कर्मा की, तेल से ताल भरा |
मगनवित् होए गवां लागी, हे पालनकर्ता || ॐ ||

जगन्नाथ में खिचड़ी खाई, प्रभु शरण गहि |
सत्यनारायण कह कर गावे, दया करो माता || ॐ ||
ॐ जय कर्मा माता, ॐ जय कर्मा ||